HomeVideoडायबिटीज में क्या खाएं और क्या नहीं खाएं || diabetes me kya khana chahiye or kya nahi | Sugar

डायबिटीज में क्या खाएं और क्या नहीं खाएं || diabetes me kya khana chahiye or kya nahi | Sugar



Diabetic Diet में ज्यादा फाइबर युक्त भोजन -जैसे छिलके सहित पूरी तरह से बनी हुई गेहूं की रोटी, जई (Oats) इत्यादि जैसे जटिल कार्बोहाइड्रेट शामिल होनी चाहिए, क्योंकि वे खून के प्रवाह में धीरे-धीरे मिल जाते हैं। इस प्रकार Insulin उत्पादित Glucose का बेहतर ढंग से सामना कर सकती है।
गेहूं और जौ 2-2 किलो की मात्रा में लेकर एक किलो चने के साथ पिसवा लें। ऐसे चोकर सहित आटे की बनी चपातियां भोजन में खाएं। इसे अपने Diabetic Diet में अवश्य शामिल करें |
मधुमेह रोगियों के लिए आहार के अंतर्गत सब्जियों में करेला, मेथी, सहजन , पालक, तुरई, शलगम, बैंगन, परवल, लौकी, मूली, फूलगोभी, broccoli, टमाटर, बंदगोभी, Tofu, सोयाबीन की मंगौड़ी, जौ, बंगाली चना, पुदीना, हल्दी, काला चना, दालचीनी, फलीदार सब्जियां जैसे बीन्स, सैम फली, शिमला मिर्च, हरी पत्तेदार सब्ज़ियां शामिल करें तथा इन सब्जियों से बने पतले सूपों का जितना चाहें उतना सेवन करें।
तुलसी के बीज, जैतून का तेल (Olive oil),अलसी, बादाम का भी बेहिचक सेवन करें |
मधुमेह में फल (Fruit For Diabetes Patient )- फलों में जामुन, नींबू, आंवला, टमाटर, पपीता, सिंघाड़ा, खरबूजा , कच्चा अमरुद, संतरा, मौसमी, ककड़ी ,चुकन्दर , मीठा नीम, बेल का फल, जायफल तथा नाशपाती को शामिल करें। आम ,पका केला ,सेब, खजूर तथा अंगूर में शुगर होता है, लेकिन क्योंकि फलों में फाइबर ज्यादा होता है इसलिए ये अच्छे शुगर की केटेगरी में आते है | जिनको हाई लेवल मधुमेह नहीं है वो इनको कम मात्रा में ले सकते है| इनका जूस बिल्कुल ना पियें क्योंकि उससे फाइबर निकल जाते है | आम की पत्तियों का सेवन भी लाभकारी है, इसके लिए 15-16 पत्तियों को एक कप पानी में उबाल लें और छान कर पियें |
ठीक इसी प्रकार हरे केले के छिलकों का प्रयोग भी Diabetic Diet Plan में किया जा सकता है |
तरबूज में Fat और cholesterol दोनों ही नहीं होते है बल्कि इसमें मौजूद potassium मांसपेशियों को ठीक से काम करने में मदद करता है | American Diabetes Association इसकी पुष्टि करता है |
मेथी दाना (बीज) 25 से 100 ग्राम तक प्रतिदिन सुबह खाली पेट या सब्जी बनाकर, आटे में मिलाकर अथवा दाल के साथ नियमित रूप से खाएं।
मक्खन एवं पनीर के बजाय नमक के पानी में डिब्बाबंद मशरूम, Salmon Fish, Tuna Fish के साथ उबले आलू का उपयोग करें। अगर आप मांसाहारी है तो मछली और मछली का तेल सिमित मात्रा में प्रयोग कर सकते हैं | लेकिन यह सावधानी रखें की मछली को तेल में फ्राई करने की बजाय भून कर, पकाकर या सेंक कर खाएं | मछली में फैट होता है |
खाने से पहले एक कटोरी सलाद जरुर लें।
Diabetic Diet में बादाम, चना दाल, लहसुन, प्याज, अंकुरित दाले, अंकुरित छिलके वाला चना , सत्तू, बाजरा आदि शामिल करे |
कमजोरी दूर करने के लिए हरा कच्चा नारियल, अखरोट, मूंगफली के दाने, काजू, सोयाबीन, मटन का सूप, दही, छाछ का सेवन करें।
इंसुलिन के बनने में क्रोमियम की कमी से रुकावट आती है। इसलिए इसकी कमी को पूरी करने के लिए फूलगोभी, मशरूम, चोकर सहित खड़े अनाज, खमीर, सूखे मेवे यानि ड्राई फ्रूट्स अधिक खाएं और दालचीनी (cinnamon), अजमोद का भी सेवन करें।
फलों का ताज़ा जूस न पीए इसकी बजाय फल खाएं क्योकि उसमे ज्यादा फाइबर होता है !
मधुमेह से ग्रस्त रोगियों को अधिकतर ताजी, हरी सब्जियां खानी चाहिए । प्रत्येक भोजन के साथ सलाद जरुर लेना चाहिए । खाने में आधिक मात्रा में फल एवं सब्जियां लेने से शरीर में अधिक पानी पहुंचता है।

source

Previous post
Is Prediabetes The Same Thing As Metabolic Syndrome Or Syndrome X?
Next post
IS BANANA BENEFICIAL FOR DIABETICS-BANANA FOR DIABETICS

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz